हल्दी आपकी सेहत, बाल, त्वचा और चेहरे पर इन 9 तरीकों से आपकी मदद करती है। सर्वोत्तम परिणामों के लिए हल्दी का उपयोग करने के 4 सर्वोत्तम तरीके।(2020)

हल्दी आपकी सेहत, बाल, त्वचा और चेहरे पर इन 9 तरीकों से आपकी मदद करती है। सर्वोत्तम परिणामों के लिए हल्दी का उपयोग करने के 4 सर्वोत्तम तरीके।(2020)

स्वादिष्ट भोजन बनाने के साथ - साथ कई समस्याओं का इलाज करने के लिए प्राचीन काल से भारतीय घरों में हल्दी का उपयोग किया जाता है। इस लेख में हमने आपको हल्दी के 9 लाभों के बारे में बताया है जो आपके बालों, त्वचा, चेहरे और स्वास्थ्य पर अच्छा प्रभाव डालते हैं। हमने आपको हल्दी से सबसे अधिक लाभ निकालने के 4 सर्वोत्तम तरीकों के बारे में भी बताया है। अधिक जानने के लिए पूरा लेख पढ़ें।

हल्दी क्या है

हल्दी अदरक परिवार का एक फूलो वाला पौधा है। यह न केवल त्वचा के लिए अत्यधिक उपयोगी है बल्कि किसी व्यक्ति के बालो, चेहरे और स्वस्थ्य के लिए भी लाभदायक है, इसीलिए यह कई शताब्दियों से आयुर्वेदिक ओसधियो का एक भाग है। साथ ही इसका उपयोग भोजन पकाने में और चेहरे के उज्ज्वल और सुस्वाद त्वचा के लिए फेस मास्क के रूप में उपयोग किया जाता है।

दक्षिण पूर्व एशिया और भारतीय उपमहाद्वीप के इस मूल निवासी, इस पौधे को बड़ा होने के लिए 30 डिग्री सेल्सियस तापमान और बहुत अधिक वर्षा की आवश्यकता होती है। इसका कुछ भाग खा लिया जाता है, और इसके अधिकतर भाग को रहिजोम्स के रूप में उपयोग किया जाता है जिसे या तो उबले हुए पानी में डाला जाता है या ताज़ा पानी में। उबलता हुआ जल एक पीले रंग का पाउडर का निर्माण करता है जो करी और कई अन्य एशियाई व्यंजनों में स्वाद और रंग लाने वाले तत्व के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।

इसके आलावा, हल्दी का स्वाद कड़वा लेकिन सरसों जैसी सुगंध वाला गर्म स्वाद है। हलाकि, इसका इस्तेमाल केवल त्वचा पर नहीं किया जाता बल्कि इसके अद्भुत रंग के कारण डाई आदि के लिए भी किया जाता है। इसका उपयोग लाक्षणिक ​​प्रयोगों और कई बीमारियों के उपचार के लिए भी किया जाता है क्योंकि इसमें कर्क्यूमिन जैसे तत्व होते हैं जो हमारे स्वास्थ्य के लिए कई प्रकार से लाभदायक हैं।

त्वचा के लिए हल्दी के लाभ

उम्र के बढ़ने को कमाने और सोरायसिस को ठंडक देने

Source bp-guide.in

हल्दी में बहुत अधिक मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट तत्व होते है जो त्वचा में मुक्त कण उत्पादन को रोकता है और, इस प्रकार, यह कोशिकाओं को नुकसान से बचाने के द्वारा उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को कम करता है। हल्दी में मौजूद करक्यूमिन नमी की कमी को होने से रोकता है और त्वचा को झाई और झुर्रियाँ से बचता है। साथ ही, हल्दी में करक्यूमिनोइड पिगमेंट त्वचा पर लाइनों, काले धब्बों और हाइपरपिग्मेंटेशन को रोकते हैं। हालांकि, यदि आप हल्दी का उपयोग बहुत अधिक करते है तो इसके एंटीऑक्सिडेंट्स आपके त्वचा को सूखा और कुंठित बना सकता है।

इसके साथ साथ, हल्दी में सूजनरोधी गुण होते हैं जो सोरायसिस के लक्षणों से राहत दिलाने में भी सहायता करते हैं। सोरायसिस एक चर्मरोग है जो त्वचा को लाल, परतदार और अफेड धब्बो से भरी हुयी बना देता है। हल्दी का उपचार गन अनावश्यक कोशिकाओं की वृद्धि को रोकता है और त्वचा पर धब्बो को रोकता है। इसके आलावा, रोगाणुरोधक गुण घावों को भरने और निशान को मिटाने में सहायता करता हैं।

घाव भरने की प्रक्रिया को तेज करने, धब्बो को हल्का करने और त्वचा को दमकदार बनाने में सहायता करता है

हल्दी में प्राकृतिक रूप से उपचार के गुण होते है। इसमें करक्यूमिन एंटीऑक्सीडेंट होते है जो सूजन कम करने और तीव्र पीड़ा को कम करने और घाव भरने की प्रक्रिया को तेज करने में सहायता करते है। साथ ही, यह कोलेजन का निर्माण करने और कोशिका वृद्धि को बढ़ावा देने में सहायता करते है जिसके परिणामस्वरूप घाव जल्दी से भर जाते है। इसके आलावा, करक्यूमिन में दानेदार ऊतक गठन को बढ़ाने की क्षमता है जोकि एक ऊतक है जो निशान को दूर करने और हाइपरपिग्मेंटेशन को कम करने में सहायता करता है।

इसके साथ साथ, हल्दी में विद्यमान सूजनरोधी और एंटीऑक्सीडेंट तत्व मेलेनिन के उत्पादन को कम करता है, जो त्वचा की टोन को बाहर निकालने और त्वचा की बनावट को बेहतर बनाने में सहायता करता है। हल्दी आपकी त्वचा के प्राकृतिक चमक के पुनः निर्माण में और गहरे धब्बो के उपचार में भी सहायता कर सकता है। प्रति सप्ताह में दो बार हल्दी का लेप लगाकर, आप अपने चेहरे को उज्ज्वल प्रभाव देते हुए दमकदार बना सकते है।

खुजली, रोसेसिया, और कुछ अन्य त्वचा के रोगो के उपचार में सहायता करता है

स्केबीज एक चर्म स्थिति है जो सरकोपेट्स स्कैबी के कारण होता है। ये सूक्ष्म कण होते है जो त्वचा पर महीनो तक रहते है और इसके कारण लालिमा, दाने और खुजली जैसे समस्याएं होती है। अब, विभिन्न शोधो और अध्यनो से यह पता चला है कि जब हल्दी को चाय पौधे के तेल और नीम के साथ मिलाया जाता है तो यह त्वचा को खुजली से राहत प्रदान करता है और त्वचा पर दाने को ठीक करता है। इसके आलावा, हल्दी त्वचा छिद्रो को साफ करने और नमि को त्वचा में बनाये रखने में भी सहायता करता है। हल्दी में मौजूद टेट्राहाइड्रोक्रुमिन लालिमा को कम करता है और त्वचा को शांत और सुखदायक बनाते हुए दाने को भी कम करता है।

इन सभी के साथ साथ, हल्दी अन्य चर्म अवस्थाएं जैसे एक्जिमा, शुष्क त्वचा, विटिलिगो और स्क्लेरोडर्मा में भी सहायता करता है। करक्यूमिन के सूजनरोधी गुण सूजन, लालिमा और त्वचा की व्यथा को कम करने में भी सहायता करता है। यह सक्रिय संघटक त्वचा को गहराई से नमिकृत करने और उसके प्राकृतिक ऊतकों के पुनः निर्माण में सहायता करता है, जिससे त्वचा के समग्र बनावट को बढ़ाने में सहायता मिलती है।

बालो और चेहरे के लिए हल्दी के लाभ

त्वचा पर मुंहासो और दरारों के लिए सहायक

करक्यूमिन सूजनरोधी गुणों वाला एक बायोएक्टिव घटक है जो आपके छिद्रों को अपना निशाना बनता है और त्वचा को शांत कर सकता है। अपने जीवाणुरोधी और एंटीसेप्टिक गुणों की सहायता से, हल्दी ब्रेकआउट को रोकने में सहायता करता है और मौजूदा पिम्पल्स का भी उपचार करता है। इसके आलावा, एक उत्तम प्राकृतिक एक्सफोलिएंट होने के कारन, हल्दी में बहुत अधिक मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते है, जो बैक्टीरिया को नष्ट करने और कोलेजन गठन में सहायता करता है, और इस प्रकार मुँहासे कम हो जाते हैं।

इन सभी के साथ साथ, हल्दी के हाइड्रेटिंग गुण सूखी त्वचा को शांत करने और त्वचा की प्राकृतिक नमी को बनाये रखने में भी सहायता कर सकता हैं। साथ ही, करक्यूमिन मुक्त कणों को संतुलित करने में सहायता करता है जो फिर बाद में सूखी त्वचा के उपचार में सहायता करते हैं। हल्दी का लेप प्राकृतिक दमक के साथ कोमल, चिकनी, और कोमल त्वचा के पुनः निर्माण के लिए मृत त्वचा कोशिकाओं को बाहर निकालने में भी सहायता करता है।

एक्सफोलिएशन के लिए उत्तम और खिंचाव के निशान को कम करता है

हल्दी के एंटीऑक्सीडेंट क्षमता इसे त्वचा की झिल्ली कोशिकाओं के कार्य को भेदने और बेहतर बनाने में सहायता करती है, जो बाद में त्वचा के एक्सफोलिटेशन में सहायता करते है। यह बाद में बाले धब्बो, अतिरिक्त तेल के निर्माण और मृत त्वचा कोशिकाओं को रोकने में सहायता करता है। हल्दी विशेष रूप से वसामय ग्रंथियों द्वारा तेल स्राव को कम करने के लिए जाना जाता है, खाड़ी में संक्रमण को बनाए रखने में सहायता करता है, और, इस प्रकार, एक उत्तम एक्सफ़ोलीएटर के रूप में कार्य करता है और त्वचा को एक युवकिये दमक प्रदान करता है।

इसके साथ साथ, हल्दी के चिकित्सीय गुण खिंचाव के निशान को मिटाने में सहायता करते हैं और त्वचा टोन को भी बढ़ाने में सहायता करते हैं। हल्दी के सक्रिय तत्व रक्त सञ्चालन को उत्तेजित करके और नई कोशिकाओं और कोलेजन के निर्माण में वृद्धि करके जिद्दी खिंचाव के निशान को हटाने में सहायता करते हैं। इसके आलावा, हल्दी के एंटी-नियोप्लास्टिक और एंटीसेप्टिक क्षमताएं त्वचा की लोच में सुधार करती हैं और त्वचा के नवीकरण और उपचार में तेजी लाती हैं।

बालो को मोटा करने के साथ साथ बालो को बढ़ने में भी सहायता करता है

हल्दी त्वचा और बालो पर अद्भुत कार्य करने के लिए जाना जाता है। उदहारण के लिए, विभिन्न अध्यनो से यह पता चलता है कि आर्गेनिक हल्दी बालो की बनावट और बालो के विकास को बढ़ा देता है। साथ ही, हल्दी बालों के फॉलिकल्स को बढ़ाकर बालों को झड़ने और पतला होने से रोकता है।

इसके आलावा, करक्यूमिन, जोकि हल्दी का एक सक्रिय संघटक है, जिसमे ऐसे गुणों के होने को निश्चित किया गया है जो बालो के झड़ने को रोकने में सहायता करता है। यह डीटीएच या डाइहाइड्रोटेस्टोस्टेरोन के अतिप्रवाह को रोककर ऐसा करता है जो बालों के झड़ने को बढ़ाने वाला हार्मोन है। करक्यूमिन सिर की त्वचा के अंदर प्रवेश करके और बालों के प्राकृतिक केराटिन को बढाकर बालों के विकास को पुनर्स्थापित करता है। इन सभी के साथ, हल्दी का एंटीसेप्टिक और सूजनरोधी गुण सिर की त्वचा को शांत करके डैंड्रफ को छुटकारा दिलाता है।

स्वस्थ्य के लिए हल्दी के लाभ

अर्थरिटिक दर्द को कम करने और पाचन को बढ़ने में सहायता करता है

त्वच और बालो पर लाभदायक होने के आलावा, हल्दी स्वस्थ्य के लिए भी लाभदायक सिद्ध होता है। उदहारण के लिए, हल्दी में सूजनरोधी गुण विद्यमान होता है जो उन लोगो के लिए लाभदायक है जोकि रूमेटाइड गठिया नमक रोग से ग्रसित होते है। यह मांसपेशियों में दर्द और सूजन को कम करता है, और इस प्रकार शांति और आराम प्रदान करता है। हल्दी में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट शरीर की कोशिकाओं को रोककर मुक्त कणों को रोकते हैं और दर्द को कम करते हुए मांसपेशियों में उपचार की गति को बढ़ाते हैं।

इसके साथ साथ, हल्दी पित्ताशय की थैली को उत्तेजित करके पाचन क्षमता को भी बढ़ता है। इस तरह, यह पित्त के उत्पादन में सहायता करता है और पाचन के साथ-साथ यकृत कार्यों में भी सुधार लाता है। इसके आलावा, यह शरीर में अमल के अधिक उत्पादन को भी कम करता है जिससे पेट फूलना और गैस की समस्या होती है। यह आंतो के पास की मासपेशियो को आराम देकर भी पाचन को बेहतर बनता है और इसका उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्सा में एक पाचन उपचार एजेंट के रूप में भी प्रयोग किया जाता है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और कोलेस्ट्रॉल को कम करता है

हल्दी एक प्राकृतिक तत्व है जो शरीर के रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाकर अच्छे से शरीर की सहायता करता है। यह ऐसा शरीर की प्रतिरक्षण क्षमता को बढाकर और इसी दौरान शरीर के मुक्त कणिकाओं की मात्रा को कम करके करता है। यह, बदले में, प्रतिरक्षा कार्यों को बढ़ाने में सहायता करता है। साथ ही, हल्दी में विद्यमान लिपोपॉलीसेकेराइड में एंटी-फंगल और जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो बक्टेरियो से लड़ते है और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बनाये रखने में सहायता करते है।

इसके आलावा, विभिन्न अध्यनो से यह पता चला है कि हल्दी कोलेस्ट्रॉल, एलडीएल कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड का स्तर को भी शक्तिशाली रूप से प्रभावित करता है। यह एलडीएल कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करने के लिए जाना जाता है जो हमारे स्वस्थ्य के लिए हानिकारक है, और यह इसके ऑक्सीकरण को सीमित करता है, धमनियों में पट्टिका के निर्माण को दबाता है। हल्दी में विद्यमान कर्कुमिनोइड रक्त वसा के स्तर को कम करता है, और इस प्रकार कोलेस्ट्रॉल स्तर को कम करने में सहायता करता है। साथ ही, यह अच्छा पाचन और रोग प्रतिरोधक क्षमता को संतुलित रखकर हॉर्मोन की मात्रा को बनाये रखता है।

यह मस्तिष्क के लिए अच्छा है और साथ ही वह माध्मय के लिए भी सहायक है

कर्क्यूमिन एक एंटीऑक्सिडेंट है, जो सूजनरोधी गुण और लिपोफिलिक कार्रवाई प्रदान करने के लिए काम करता है, यह संज्ञानात्मक और मस्तिष्क के कार्यों में सुधार करता है। हल्दी के सेष अन्य सक्रिय तत्व भी एक तेज यादाश्त प्राप्त करने में सहायता करते हैं और कर्क्यूमिन विभिन्न मस्तिष्क रोगों और स्ट्रोक के खतरों को कम करते हुए स्टेम कोशिकाओं के पुनः निर्माण करने के लिए जाना जाता है।

इन सभी के साथ साथ, हल्दी इंसुलिन और शर्करा के स्तर को कम करके मधुमेह का उपचार करने में सहायता करती है। हल्दी में पाया जाने वाला टेट्राहाइड्रोकार्बुमिन अपने एंटीऑक्सीडेंट और औषधीय गुणों के द्वारा, हार्मोन के स्तर को बनाए रखता है और मधुमेह के उपचार में सहायता करता है। विशेषकर टाइप-2 मधुमेय से ग्रसित रोगियों को हल्दी के सेवन की सलाह दी जाती है क्योकि यह इन्सुलिन स्तर को बनाये रखने में सहायता करता है और उन ओसधियो के प्रभावों को बढ़ता है जो मधुमेय रोगियों द्वारा लिया जाता है।

हल्दी का उपयोग करने के तरिके

चेहरे के लिए फेस मास्क

Source urbangyal.com

यदि आप ह्यपरपिगमेंटशन और झुर्रियों की समस्याओं का सामना कर रहे है तो एक बार इस मास्क का उपयोग करके देखे। इसे बनाने के लिए, आधा बड़ा चम्मच हल्दी, एक बड़ी चम्मच वसा मुक्त दही और छह से सात बुँदे निम्बू का रस लीजिये। बनाने की प्रक्रिया के लिए, इन सभी समग्रियो को एक छोटे से कटोरे में डालिये और अच्छे से मिलाइये। अब, मिश्रण को एक ब्रश के माध्यम से अपने चेहरे पर लगाइये। इसे लगाने के लिए, इसे अपनी त्वचा में परिपत्र गति में लगाइये और फिर पंद्रह मिनट के लिए छोड़ दीजिये। फिर इसे नियमित जल से धो लीजिये और एक तोलिये से अपने चेहरे को थपथपाते हुए पोछिए।

यदि आप अपने चेहरे को उज्जवलित बनाना चाहते है, इस मास्क का उपयोग करके देखे। इसे बनाने के लिए, बेसन का एक बड़ा चम्मच, हल्दी का पानी, आधा चम्मच शहद, एक चम्मच संतरे के छिलके का पाउडर और दो बड़े चम्मच दही लीजिये। दोबारा, इन सभी समग्रियो को एक कटोरे में डालिये और अच्छे से मिलाते हुए एक मोटा पेस्ट बनाइये। इसके बाद, इसे चेहरे पर लगाइये और फिर इसे पंद्रह मिनट के लिए इसे छोड़ दीजिये। जब समय पूरा हो जाये, इसे ठंडे पानी से धो लीजिये और फिर चेहरे पर गुलाब जल लगाइये।

त्वचा के लिए घरेलू नुस्खे

एक्जिमा और सोरायसिस जैसी त्वचा की स्थिति के उपचार करने के लिए, बारीक पिसी हुई हल्दी पाउडर का एक भाग और उसके डबल मात्रा में पानी लीजिये। इस पेस्ट को एक नॉन-स्टिक सॉसपैन में लीजिये और इसमें कम आंच में तबतक गर्म कीजिये जब तक एक मोटा पेस्ट न बन जाये। उसके बाद, इस पेस्ट को एक साफ कटोरे में निकालिये और इसे अच्छे से ठंडा होने दीजिये। उसके बाद, इस पेस्ट को त्वचा के प्रभावित क्षेत्रों में लगाइये और इन्हे एक चादर या गौज से लपेटकर ढक दीजिये। इसे एक रात तक रहने दीजिये और सुबह इसे हलके गुनगुने पानी से धो लीजिये।

हल्दी, शहद, और एलोवेरा जेल का एक संयोजन त्वचा को शांत करने और जलन को कम करने में सहायता करता है। इसी कारन के लिए, यदि आप तलवों की जलन और फ़टे होने से पीड़ित हैं तो इस घरेलू नुस्खे को आजमा कर देखिये। इसे बनाने के लिए, एक चम्मच शुद्ध शहद, एक बड़ा चम्मच ताजा एलोवेरा का गूदा और हल्दी लीजिये। सभी सामग्रियों को एक कटोरे में अच्छे से मिला लीजिये और 10 मिनट के लिए रेफ्रीजिरेटर में रख दीजिये। उसके बाद, इस पेस्ट को अपने एड़ियों में लगाइये और त्वचा पर पांच मिनट तक मालिश कीजिये। एक बार जब यह हो जाये, इसे नियमित जल से धो लीजिए और एक ह्यदृटींग मॉइस्चराइजर लगाइये।

बालो के लिए हल्दी का पेस्ट

Source lewigs.com

इस हल्दी के हेयर मास्क को बनाने के लिए, एक कटोरे में हल्दी और एक्स्ट्रा वर्जिन जैतून के तेल के बराबर भागों को अच्छे से मिलाइये। तब तक सामग्रियों को अच्छे से हिलाइये जब तक हल्दी तेल में अच्छे से मिल न जाये। उसके बाद, इस मिश्रण को अपने बालो में सिर की त्वचा तक अच्छे से लगाइये और सात मिनट तक अच्छे से मालिश कीजिये। इसे नियमित पानी और शैम्पू के साथ धोने से पहले आधे घंटे के लिए छोड़ दीजिये। फिर एक कंडीशनर और हेयर सीरम के साथ पुनः यही प्रक्रिया दोहराइये।

दूसरा हेयर मास्क जो आप इस्तेमाल करके देख सकते है, वह हल्दी, दूध और शहद का संयोजन है। इसके लिए, एक साफ कटोरा लीजिये और इसमें आधा बड़ा चम्मच हल्दी डालिये। इसके बाद, इसमें दो बड़े चम्मच गरम दूध और एक बड़ा चम्मच आर्गेनिक शहद डालिये और तब तक अच्छे से मिलाइये जब तक इसमें कोई लम्प्स न रहे। उसके बाद, इस मिश्रण को अपने बालो में सिर की त्वचा तक अच्छे से लगाइये और कुछ मिनटो तक अच्छे से मालिश कीजिये। एक बार यह हो जाये, इसे पानी और शैम्पू के साथ धोने से पहले लगभग पंद्रह मिनट के लिए छोड़ दीजिये। अंत में, एयर-ड्राई की सहायता से बालो को सुखाइये और सप्तह में यह दो बार कीजिये।

स्वस्थ्य के लिए हल्दी की चाय

सबसे पहले, स्वास्थय के लिए, आप हल्दी के सेवन के लिए इसे अपने दैनिक आहार में जोड़कर कर सकते है। उदहारण के लिए, आप हल्दी चाय, हल्दी दूध या स्मूथीज बना सकते है। हल्दी चाय बनाने के लिए, दो कप पानी लीजिये और इसमें एक चम्मच हल्दी डालकर इसे अच्छे से उबालिये। उसके बाद, इसमें आधी चम्मच काली मिर्च डालिये और इसे पंद्रह मिनट तक उबलने से पहले अच्छे से हिला लीजिये। एक बार जब यह हो जाये, इसे एक छलनी की सहायता से छान लीजिये और एक कप में निकल लीजिये। आप अतिरिक्त स्वाद के लिए इसमें निम्बू और शहद भी डाल सकते है।

हल्दी और कुछ अन्य सामग्रियों से बने सुनहरे दूध के लिए, एक बड़ी चम्मच हल्दी, थोड़ी इलायची, अदरक का एक टुकड़ा, लहसुन की दो कलिया और एक चुटकी काली मिर्च लीजिये। इसे बनाने के लिए, दूध को एक सॉसपैन में माध्यम आंच पर उबालिये और इसमें वैनिला एक्सट्रेक्ट डालिये। उसके बाद, इसे तीस सेकंड तक अच्छे से मिलाइये और फिर इसे दस से पंद्रह मिनट तक अच्छे से उबलने से पहले इसमें शेष सभी समग्रिया डाल दीजिये। उसके बाद, इसे छानकर एक गिलास में निकल लीजिये और आनंद उठाइये। आप अतिरिक्त स्वाद के लिए इसमें शहद भी डाल सकते है।

From our editorial team

इस बात का भी ध्यान रखें

हम आशा करते हैं कि आपने पूरा अनुच्छेद पढ़ा होगा। यह भी न भूलें कि गर्मी के मौसम में हल्दी का अधिक सेवन न करें क्योंकि इससे आपको समस्याएं भी हो सकती हैं। आप इसे सीमित मात्रा में ले सकते हैं। इसे रात में दूध में मिलाकर भी पियें क्योंकि यह आपके लिए बहुत उपयोगी होगा।