ग्रीन टी के सेवन से आपको ये 10 आश्चर्यजनक स्वास्थ्य लाभ मिल सकते हैं। 1 दिन में कितना सेवन करें। ग्रीन टी के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी।(2020)

ग्रीन टी के सेवन से आपको ये 10 आश्चर्यजनक स्वास्थ्य लाभ मिल सकते हैं। 1 दिन में कितना सेवन करें। ग्रीन टी के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी।(2020)

अगर आप ग्रीन टी के लाभों से अनजान हैं या ग्रीन टी का सेवन शुरू करने जा रहे हैं तो यह लेख आपके लिए है। इस लेख में हमने आपको रोजाना ग्रीन टी के सेवन से होने वाले 10 आश्चर्यजनक स्वास्थ्य लाभों के बारे में बताया है। हमने आपको विभिन्न प्रकार की ग्रीन टी के बारे में भी बताया है। हमने आपको यह भी बताया कि 1 दिन में आपको ग्रीन टी का कितना सेवन करना चाहिए। अधिक जानने के लिए और पढ़ें

ग्रीन टी क्या है और ग्रीन टी बनाने का सबसे अच्छा तरीका क्या है

ग्रीन टी उसी पौधे की पत्तियों और कलियों से तैयार की जाती है जिससे ब्लैक टी यानी कैमेलिया साइनेंसिस बनाई जाती है| जबकि ब्लैक टी तैयार करने के लिए पत्तियों का ऑक्सीडेशन प्रक्रिया करते हैं, ग्रीन टी थोडे कच्चे रूप में होती है, इसलिए इसमें प्राकृतिक तत्व अबाधित होते हैं| ग्रीन टी की मूल उत्पत्ति चीन में है और वहां से यह भारत और जापान और कोरिया जैसे अन्य एशियाई देशों में फैल गई| ग्रीन टी का उपयोग कई पारंपरिक दवाओं को बनाने में किया जाता है और ग्रीन टी की विभिन्न जातियाँ उपलब्ध हैं| हालांकि अभी भी मनुष्यों पर ग्रीन टी के संभावित स्वास्थ्य लाभों के लिए शोध चल रहे हैं, लेकिन अब तक के परिणामों ने सकारात्मक स्वास्थ्य लाभ दिखाए हैं|

ग्रीन टी बनाने का तरीका: एक कप ग्रीन टी बनाने का सही तरीका

यदि आपने कभी एक कप ग्रीन टी का एक घूंट लिया है और आपको उसका स्वाद पसंद नहीं आया है, तो इस बात की संभावना है कि पत्तियों को अच्छी तरह से पीसा नहीं गया था; क्योंकि इन नाजुक पत्तियों को अच्छी तरह से इसका सुगंध प्राप्त करने के लिए सही ढंग से पीसा जाना चाहिए| ग्रीन टी के कई फ्लेवर हैं जिनमें से तुलसी, कैमोमाइल, पेपरमिंट, हनी और जैस्मीन आदि शामिल हैं| एक सही ग्रीन टी बनाने के लिए एक पैन में एक कप पानी उबलते बिंदु के करीब आने तक गर्म करें| अब 1 चम्मच हरी पत्तियों को लें (यदि आप ग्रीन टी बैग्स का उपयोग कर रहे हैं तो 1 टीबैग) और पैन में डालें, 2 मिनट के लिए ढक्कन से बंद कर दें और पत्तियों को गर्म पानी में डुबो दें| 2 मिनट के बाद छलनीसे (छलनी जो आपकी रोजाना चाय को छालती है) आपके कप में डालें और यह जांचने के लिए एक घूंट लें कि क्या यह पर्याप्त तीव्र स्वाद है, अन्यथा पत्तियों को 30 सेकंड के लिए फिर से चाय में डुबो दें|

एक दिन में कितनी ग्रीन टी पीनी चाहिए

विभिन्न अध्ययनों से सिफारिश की जाती है कि, इन्सान को दिन में एक से छह कप ग्रीन टी पीने से लाभ हो सकता है| यह इस बात पर निर्भर करता है कि, वह किस लाभ को प्राप्त करना चाहता है| यदि आप वजन घटाने के लिए ग्रीन टी लेना शुरू करना चाहते हैं तो दो से तीन कप का सेवन करने से एक दिन में आपको दिन में 75 से 100 कैलोरी कम करने में मदद कर सकता है, मधुमेह के लिए पांच से छह कप की सिफारिश की जाती है, स्तन और मुंह के कैंसर के लिए दिन में तीन से चार कप और हर रोज एक से तीन कप लेने से स्ट्रोक और अन्य हृदय संबंधी रोगों के जोखिम को कम करता है|

इसके अलावा, कुछ अध्ययनों से सिफारिश करते हैं कि, हर रोज पांच से छह कप ग्रीन टी का नियमित सेवन महिलाओं में पेट के कैंसर की संभावना को कम कर सकता है और हर रोज की इतनीही मात्रा पुरुषों को प्रोस्टेट कैंसर का निदान होने से रोक सकती है, उनकी तुलना में जो कि, नियमित रूप से ग्रीन टी नहीं पीतें| | इसलिए, आपके द्वारा लक्षित की जा रही विशिष्ट स्वास्थ्य स्थिति के आधार पर, आप अपनी दिनचर्या में ग्रीन टी कप की संख्या को जोड़ सकते हैं|

ग्रीन टी के विभिन्न प्रकार

दुनिया में उगाई जाने वाली चाय का सबसे सामान्य रूप 'ग्रीन टी' है जिसका नाम प्राकृतिक हरी रंग की पत्तियों से प्राप्त होने वाले काढ़े के हरे रंग से मिलता है| हालांकि कैमेलिया सिनेंसिस सभी ग्रीन टी का स्रोत वनस्पति है, कटाई और प्रोसेसिंग का हिस्सा जो इस पेड़ से उत्पादित चाय के प्रकार को परिभाषित करता है| पहली फसल लगभग मध्य वसंत की शुरुआत में आती है और उच्चतम गुणवत्ता वाली पत्तियों का उत्पादन करती है, जो सबसे महंगी भी होती हैं| कुछ किस्में सुखाने की प्रक्रिया पर निर्भर करती हैं, पीसना और रोलिंग की तकनीक और पौधों द्वारा प्राप्त की जाने वाली सूर्य के प्रकाश की मात्रा पर भी निर्भर करती है| किसानों द्वारा तोड़ी गयी नई चाय की पत्तियों को उठाया जाता है, फिर ऑक्सीकरण प्रक्रिया को रोकने के लिए भाप देतें है और भुनाई करते हैं| लेकिन ऑक्सीकरण प्रक्रिया को रोकना यह, आपके कप तक पहुंचने से पहले ग्रीन टी बनाने का सिर्फ पहला कदम है|

जापानी ग्रीन टी की कुछ प्रसिद्ध किस्में हैं - सेन्चा, जो सीधे धूप में उगाई जाती है और पहली या दूसरी फसल से होती है| यह प्रतिरक्षा को बढ़ाने और आम सर्दी से लड़ने के लिए काफी उपयोगी है; गियोकुरो ग्रीन टी जिसकी कटाई की प्रक्रिया सेन्चा के समान होती है, लेकिन ये पत्तियां सूरज की रोशनी से फसल से लगभग 3 सप्ताह पहले छिपी हुई होती हैं| सूर्य के प्रकाश के कम संपर्क में आने से इस ग्रीन टी को एक मीठा स्वाद मिलता है, जो मस्तिष्क और नर्व्हस सिस्टिम के लिए फायदेमंद होता है और उच्च स्तर पर थिनिन ऊतक विकास और स्वस्थ त्वचा में भी मदद करता है| एक अन्य लोकप्रिय जापानी चाय है माचा ग्रीन टी, जो कि टेंचा चाय का पाउडर संस्करण है (इसकी रोलिंग प्रक्रिया नहीं है, इसलिए इसमें बड़ी पत्तियां होती हैं) और इसमें उच्च स्तर के प्राकृतिक पोषक तत्व होते हैं जो स्वस्थ त्वचा को पुनरुज्जीवित करता है और शरीरकी शुद्धि करके विषतत्व दूर करता है| कुछ लोकप्रिय भारतीय वेरिएंट हैं हल्दी दालचीनी ग्रीन टी, हल्दी इलायची ग्रीन टी, हनी लेमन ग्रीन टी, कश्मीरी कहवा ग्रीन टी, दार्जिलिंग ग्रीन टी और आयुर्वेदिक ग्रीन टी|

ग्रीन टी का उपयोग: इसके नियमित सेवन के कई लाभ

जैसा कि ऊपर कहा गया है, ग्रीन टी के बहुत सारे स्वास्थ्य के लाभ हैं और इसके नियमित सेवन से कई बीमारियाँ दूर रहती हैं| अब विभिन्न रोगों और स्वास्थ्य स्थितियों के लिए ग्रीन टी के लाभों के बारे में कुछ विवरण देखतें हैं|

कैंसर को रोकता है

नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट, यूएसए के एक अध्ययन से पता चला है कि चाय में मौजूद पॉलीफेनोल्स जानवरों में ट्यूमर के विकास को कम करते हैं और अल्ट्रा व्हायोलेट (यूवीबी) विकिरण के हानिकारक प्रभावों से भी बचाते हैं| जिन देशों में कम ग्रीन टी का सेवन किया जाता है, उन देशों की तुलना में ग्रीन टी के अधिक खपत वाले देशों में कैंसर के मामले कम हैं| शोधकर्ताओं ने उल्लेख किया है कि चाय में पॉलीफेनोल के उच्च स्तर कैंसर कोशिकाओं को मारने के लिए फायदेमंद होते हैं, इस प्रकार उनकी वृद्धि को रोकते हैं| कुछ अध्ययनों ने कैंसर के बहुत सारे प्रकारों पर हरी चाय के सकारात्मक परिणाम दिखाए हैं जिनमें मूत्राशय, स्तन, डिम्बग्रंथि, इसोफेगल (गले), कोलोरेक्टल (आंत्र), त्वचा, प्रोस्टेट, फेफड़े और पेट शामिल हैं| स्तन कैंसर के लिए, उन महिलाओं में जोखिम 20 - 30% कम पाई गयी, जो नियमित रूप से उन लोगों की तुलना में हरी चाय नहीं पीती थीं| इसी तरह कोलोरेक्टल कैंसर के लिए, ग्रीन टी पीने वालों में, न पिने वालों की तुलना में 42% कम जोखिम थी|

दिल की सेहत के लिए फायदेमंद

Source www.aajtak.in

दुनिया भर में होने वाली मृत्यु में से आधे से अधिक लोग स्ट्रोक, हृदय और हृदय रोगों के कारण होती हैं और हृदय की समस्याओं के पीछे मुख्य कारण कोलेस्ट्रॉल और खराब कोलेस्ट्रॉल (एलडीएल) है| अध्ययन से संकेत मिलता है कि ग्रीन टी रक्त में एंटीऑक्सिडेंट को बढ़ाकर कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार कर सकती है, इस प्रकार एलडीएल कणों को आगे ऑक्सीकरण से बचाती है ;जो बाद में दिल से संबंधित समस्याओं के कारणों में से यह भी एक कारण बन सकता है| जो लोग नियमित रूप से ग्रीन टी का सेवन करते हैं उनमें हृदय से संबंधित बीमारी से मरने की 31% कम जोखिम होती है| इसके अलावा, जापान में 40 से 79 वर्ष की आयु के बीच लगातार ग्यारह वर्षों तक 40, 000 से अधिक प्रतिभागियों पर किए गए एक अध्ययन में, यह निष्कर्ष निकाला गया है कि जो लोग 5 या अधिक कप ग्रीन टी पीते हैं उनमें, जो प्रति दिन एक कप से कम ग्रीन टी पिते उन मरने वालों की तुलना में, मरने की जोखिम काफी कम थी|

कोलेस्ट्रॉल कम करता है

नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन द्वारा किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि ग्रीन टी का नियमित सेवन एलडीएल-कोलेस्ट्रॉल गाढ़ापन को कम करने में सहायक है| शोधकर्ताओं का मानना है कि चाय में पाया जाने वाला एक एंटीऑक्सीडेंट, " कैटेचिन" कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए जिम्मेदार होता है| जैसा कि ग्रीन टी किण्वित नहीं किया जाता है, इसमें काली चाय की तुलना में कैटेचिन प्रतिशत जादा और कैफीन का अनुपात कम होता है, क्योंकि काली चाय किण्वित होती है| यही कारण है कि काली चाय आपको रात में जागृत रख सकती है, लेकिन ग्रीन टी का ऐसा कोई दुष्प्रभाव नहीं है|

स्वस्थ बायोएक्टिव यौगिक

एक नियमित पेय होने के अलावा, ग्रीन टी में कई बायोएक्टिव कम्पौंड हैं जो हमें विभिन्न बीमारियों से बचने में मदद करते हैं| हम पॉलीफेनोल्स के बारे में बात करते हैं, ये प्राकृतिक रासायनिक मिश्रण कैंसर से लड़ने और सूजन को कम करने में उपयोगी हैं| फिर एक प्रकार का "कैटेचिन" (प्राकृतिक एंटी-ऑक्सीडेंट) एपिगैलोकैटेचिन-3-गैलेट (ईजीसीजी) भी मौजूद होता है जो शरीर में मुक्त कणों का निर्माण करके कोशिकाओं और अणु के क्षति को रोकता है और इसके अन्य स्वास्थ्य लाभ भी होते हैं| ग्रीन टी में खनिज भी होते हैं जो शरीर के लिए उपयोगी होते हैं| लेकिन हमेशा अच्छी गुणवत्ता वाली चाय ही चुनें क्योंकि सस्ती गुणवत्ता वाली ग्रीन टी में अधिक मात्रा में फ्लोराइड हो सकता है जो स्वास्थ्य के लिए उपयुक्त नहीं है|

मस्तिष्क की उम्र बढ़ने से रोकता है

शोध बताते हैं कि ग्रीन टी का नियमित सेवन संज्ञानात्मक कार्यों के लिए अद्भुत काम कर सकता है, विशेष रूप से काम करने वाली स्मृति| निष्कर्ष यह भी बताते हैं कि हरी चाय मनोभ्रंश की तरह न्यूरोसाइकिएट्रिक विकारों से संबंधित संज्ञानात्मक विकारों के उपचार में उपयोगी है| 2011 में एक अन्य अध्ययन में, कोलोन उपलब्ध” ग्रीन टी एक्सट्रैक्ट नामक ग्रीन टी के एक घटक का अध्ययन किया गया और इस अध्ययन के आधार पर अल्जाइमर सोसायटी ने उल्लेख किया कि ग्रीन टी में ऐसे तत्व होते हैं जो अल्जाइमर रोग के खतरे को कम करने में सहायक हो सकते हैं अन्य मानसिक स्थिति जैसे तनाव और पुरानी थकान| इसके अलावा, एक प्रमुख घटक कैफीन डोपामाइन जैसे न्यूरोट्रांसमीटर को उत्तेजित करने में मदद करता है जो हमारे मूड को प्रभावित करता है|

मधुमेह प्रकार 2

Source hi.quora.com

टाइप 2 मधुमेह एक जीवन शैली की बीमारी बन गई है और बड़ी संख्या में आबादी इस आनुवंशिक बीमारी से प्रभावित है| मधुमेह सीधे हमारे शरीर में इंसुलिन का उत्पादन करने में असमर्थता के साथ जुड़ा हुआ है जिसके परिणामस्वरूप रक्त में शर्होकरा का स्तर उच्च होता है, क्योंकि इंसुलिन यह ऐसा हार्मोन है जो शरीर में निर्माण होने वाले अतिरिक्त चीनी का पाचन करता है| जापान में एक अध्ययन ने निष्कर्ष निकाला कि जो लोग नियमित रूप से हरी चाय का सेवन कर रहे थे, उन्हें मधुमेह (टाइप 2) की जोखिम उनकी तुलना में, जो या तो बिल्कुल नहीं पी रहे थे या मध्यम मात्रा में ले रहे थे, 42% कम थी| , 286, 701 लोगों के संयुक्त 7 अध्ययनों में से एक अन्य निष्कर्ष से पता चलता है कि नियमित रूप से ग्रीन टी पीने वालों को टाइप 2 मधुमेह का 18% कम जोखिम थी|

भड़काऊ त्वचा रोगों में उपयोगी है

वर्ष 2007 में, एक अध्ययन में उल्लेख किया गया कि, ग्रीन टी रूसी और सोरायसिस जैसे त्वचा विकारों के लिए एक नया उपचार हो सकता है| सूजनभरी त्वचा रोगों के लिए जानवरों पर किए गए अध्ययनों ने सुजन के कारण हुए त्वचा रोग को, लाल, सूखी और परतदार त्वचा के पैच में वर्गीकृत किया, और त्वचा कोशिकाओं के अधिक उत्पादन से त्वचा कोशिकाओं की मरेल जैसी धीमी वृद्धि दिखाई दी, और एक ऐसे जिन की उपस्थिति भी दिखाई देती है जो, कोशिकाओं का जीवन चक्र नियंत्रित करता है|

वसा जलता है

हम में से ज्यादातर लोगों ने सुना है कि ग्रीन टी वसा को कम करने और वजन कम करने के लिए प्रभावी है| ये सिद्धांत उन शोधों का परिणाम है, जो दावा करते हैं कि, ग्रीन टी एक प्रभावी चयापचय बूस्टर है, इस प्रकार यह वसा जलने की प्रक्रिया को बढ़ाता है| 10 स्वस्थ पुरुषों पर किए गए एक अध्ययन में, ग्रीन टी के नियमित सेवन से जली हुई कैलोरी की संख्या में 4% की वृद्धि देखी गई| एक दूसरे में जिसमे 12 स्वस्थ पुरुषों को शामिल किया गया था, ऑक्सीकरण की प्रक्रिया में प्लासेबो की तुलना में ग्रीन टी के अर्क की खुराक से 17% की वृद्धि हुई थी| और तो और, ग्रीन टी में मौजूद कैफीन भी शारीरिक प्रदर्शन में सुधार करता है जिससे वसा जलने की प्रक्रिया बढ़ती है|

सांसों की बदबू को कम करता है

हम पहले से ही कटेचिन के विभिन्न लाभों के बारे में उल्लेख कर चुके हैं, लेकिन ये एंटीऑक्सिडेंट, बैक्टीरिया के बढ़ने को दबाने और संक्रमण के जोखिम को काफी कम करके मौखिक स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद हैं| स्ट्रेप्टोकोकस जैसे बैक्टीरिया की म्यूटेन, प्लाक के गठन के लिए जिम्मेदार होते हैं, जिसके परिणामस्वरूप दांतों की सड़न और कैव्हितिज जैसी समस्याएँ होती है| कैटेचिन प्रभावी रूप से इन हानिकारक जीवाणुओं को मार सकती हैं|

स्ट्रोक का खतरा कम करता है

स्ट्रोक में प्रकाशित एक शोध: अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के जर्नल ने निष्कर्ष निकाला है कि आपकी दैनिक दिनचर्या में कुछ कप हरी चाय सहित एक छोटी जीवनशैली में बदलाव से हृदय आघात के जोखिम को काफी कम किया जा सकता है| कुछ अध्ययनों ने ग्रीवा डिसप्लेसिया, ओरल ल्यूकोप्लाकिया, क्लॉग्ड आर्टरी (कोरोनरी आर्टरी डिजीज), लो ब्लड प्रेशर और पार्किंसंस रोग जैसी स्थितियों में भी ग्रीन टी का सकारात्मक प्रभाव दिखाया है|

ग्रीन टी के साइड-इफेक्ट्स

नियमित रूप से बड़ी मात्रा में ग्रीन टी का सेवन करने से शरीर पर प्रभाव पड़ सकता है क्योंकि इसमें कैफीन होता है| कुछ साइड इफेक्ट्स जैसे सिरदर्द, अनियमित दिल की धड़कन, चिड़चिड़ापन, चक्कर आना, भ्रम, घबराहट और नाराज़गी आदि हैं| कैफीन के उच्च स्तर कैल्शियम की मात्रा को कम करते हैं| आपकी हड्डियों में, इस प्रकार ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा बढ़ जाता है (एक बीमारी जिसमें हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और यहां तक ​​कि एक छोटे से झटके या चोट से टूटने का खतरा होता है)|

बच्चे ग्रीन टी को मध्यम मात्रा में ले सकते हैं या दिन में तीन बार गरारे कर सकते हैं, गर्भवती और स्तनपान करने वाली महिलाएं प्रति दिन 2 कप तक ले सकती हैं| एनीमिया, चिंता विकार, रक्तस्राव विकार, हृदय रोग दस्त, ग्लूकोमा, हाई बीपी, चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम और यकृत रोग से पीड़ित लोगों को या तो हरी चाय से बचना चाहिए या कम मात्रा में लेना चाहिए और प्रभावों को पहले आजमाना चाहिए| आपकी जीवनशैली, उम्र का हिसाब और स्वास्थ्य की स्थिति जैसे अन्य कारक भी आपके द्वारा रोज पिने जा सकने वाली ग्रीन टी की मात्रा निर्धारित करते हैं, लेकिन सिफारिश सिर्फ प्रति दिन पांच से छह कप से अधिक नहीं है|

From our editorial team

अच्छी गुणवत्ता वाली ग्रीन टी का सेवन करें

हमें उम्मीद है कि इस लेख ने आपकी मदद की होगी। एक दिन में अधिक ग्रीन टी का सेवन न करें क्योंकि यह आपकी सेहत को कई तरह से खराब कर सकता है। साथ ही अच्छी गुणवत्ता वाली ग्रीन टी का सेवन करें क्योंकि यह आपके लिए अधिक सहायक होगी।