अगर इंडियन स्ट्रीट फूड का नाम सुनते ही आपके मुंह में पानी आ जाता है, तो आप इन 10 इंडियन स्ट्रीट फूड्स को अपनी जिंदगी में एक बार जरूर  खाएं (2019)

अगर इंडियन स्ट्रीट फूड का नाम सुनते ही आपके मुंह में पानी आ जाता है, तो आप इन 10 इंडियन स्ट्रीट फूड्स को अपनी जिंदगी में एक बार जरूर खाएं (2019)

हर इंडियन स्ट्रीट फूड्स का बेहद दीवाना होता है और टूरिस्ट भी इनका काफी आनंद लेते हैं। हम आज इस अनुच्छेद में आपके लिए कुछ हटके लेकर आए हैं। हमने आपके लिए मुंह में पानी ला देने वाले स्ट्रीट फूड्स की सूची तैयार की है और साथ में हमने यह भी बताया है कि यह किन शहरों से ताल्लुक रखते हैं। तो अनुच्छेद को पूरा पढ़ें।

भारतीय स्ट्रीट फ़ूड के क्यों है दुनिया भर में दीवाने ?

अगर किसी भी ऐसे फ़ूड लवर से पूछें जाये , जो सड़क के किनारे फ़ूड स्टॉल पर खाना पसंद करता है, कि क्यों वो स्ट्रीट फूड का शौकीन हैं? हम दावे के साथ कह सकते है कि इसके पीछे , आपको सिर्फ एक कारण नहीं मिलेगा, क्योंकि दुनिया भर में स्ट्रीट फ़ूड को पसंद करने के पीछे कई कारण हो सकते हैं। उनमे से कुछ कॉमन रीज़न इस प्रकार है।

  • स्ट्रीट फ़ूड सबसे सस्ते होते हैं। जिनके आमदनी अधिक नहीं है, वे लोग जो घर का बना खाना खाने से ऊब चुके हैं, बेरोजगार लोग, इंडियन स्ट्रीट फ़ूड इन सभी के लिए एक आशीर्वाद है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कौन हैं या आपकी वित्तीय स्थिति क्या है, स्ट्रीट फूड एक ऐसी चीज है जो हर किसी की जेब में फिट बैठता है।

  • कई बार जब आप सड़क पर चलते हैं, तो जैसे ही कुछ स्ट्रीट फूड डिश की महक आपके नाक के पास से होकर गुजरती है तो आप खुद को रोक नहीं पाते और वहीं ठहरकर एक प्लेट आर्डर कर देते है । यहां तक ​​कि अगर आप छके हुए हैं, तो आप फिर भी पीछे नहीं हटते हैं, क्योंकि इस तरह के माउथवाटरिंग फ़ूड के लिए एक प्लेस फिक्स होता है ।

  • क्या अापने कभी सड़क किनारे खाना खाते लोगों को नोटिस किया है? यदि हां, तो आपको उनके खाने के तरीके के बारे में पता होना चाहिए - जैसे कि कुछ आवाज़ निकाल कर खाते हैं, कुछ अपनी उंगलियां चाट रहे होते हैं, कुछ खाना खाने से पहले सिर्फ भोजन सूंघने में व्यस्त होते हैं। यही कारण है कि ज्यादातर लोग सड़क के किनारे खाना पसंद करते हैं।

  • आप चाहे जिस तरह से भी खाना चाहते हैं, उसी तरह से मजे लेकर खाये, एक भूखे जानवर की तरह खाने के बावजूद भी आपको कोई भी जज नहीं कर रहा होता । क्योंकि वहां सिर्फ आप ही नहीं बल्कि सब ऐसे ही खाने में जुटे होते है ।

  • जब हम कहते हैं कि स्ट्रीट फूड स्वादिष्ट होते हैं। तो इस वाक्य की प्रामाणिकता पर कौन भला संदेह करेगा ? आपको दुनिया भर में एक भी फूड स्टॉल नहीं मिलेगा जहां लोग भोजन के स्वाद का आनंद नहीं ले रहे होते हैं।

इंडियन स्ट्रीट फ़ूड की विविधता।

भारत एक ऐसा देश है जहाँ आपको हर चीज़ में विविधता मिलेगी। संस्कृति में अंतर, बोली जाने वाली भाषाओं ,पहनावे यहाँ तक कि भोजन में भी विविधता । स्ट्रीट फ़ूड में हर भारतीय राज्य, हर भारतीय शहर की अपनी विशेषता है। क्या आप इंदौर की खासियत माउथवाटरिंग 'पोहा और जलेबी' के बिना इंदौर की सड़कों पर घूमने की कल्पना कर सकते हैं ? या आप मुंबई के व्यस्त और भीड़-भाड़ वाली गलियों से बिना 'वडापाव' खाये गुजर सकते हैं? वही लखनऊ, उत्तर प्रदेश की गर्मागर्म 'अालू-टिक्की' या चेन्नई के सबसे लोकप्रिय 'इडली और वाडसंभर' के बारे में आपका क्या विचार है ? जब स्ट्रीट फूड की बात आती है, तो कोई भी अन्य देश भारत को नहीं हरा सकता है क्योंकि यहाँ सिर्फ एक या दो या तीन स्ट्रीट फ़ूड नहीं बल्कि हर एक राज्य और शहर के अपने खास स्ट्रीट फूड्स है ,भारत के शाही राज्य बीकानेर, राजस्थान की प्रसिद्ध 'बीकानेरी कचौरी' का तो कोई जवाब नहीं । बीकानेर अपने अद्भुत व्यंजनों और मनोरम स्ट्रीट फ़ूड के लिए जाना जाता है। सिर्फ बीकानेरीचौरी ही नहीं, रेगिस्तानी राज्य अपनी प्रसिद्ध दाल-बाटीचुरमा और पकोड़ों के लिए भी प्रसिद्ध है। ये स्ट्रीट फ़ूड बीकानेर के लगभग हर गली-मुहल्ले में मिल सकते हैं।

क्या है जो भारतीय स्ट्रीट फूड को इतना लोकप्रिय बनाता है ?

भारतीय स्ट्रीट फूड की लोकप्रियता को इस तथ्य से जाना जा सकता है कि हर दिन विभिन्न क्षेत्रों के लाखों लोग सड़क किनारे भोजन करना पसंद करते हैं। हमारे प्राचीन हिंदू आहार नियमों के अनुसार, भोजन से संबंधित दो अवधारणाएं हैं - कचा खाना और पक्का खाना। ये अवधारणाएं आज भी चलन में हैं। कच्चा खाना पारंपरिक रूप से केवल घर पर ही खाया जाता है क्योंकि कचा भोजन जैसे चावल और दाल को कुछ खास तरह के शुद्धिकरण की आवश्यकता होती है, ताकि लोगों को खाने के लिए सुरक्षित भोजन मिले, जबकि पक्का खाना घर के बाहर खाया जा सकता है। इसलिए, भारतीय स्ट्रीट फूड आम तौर पर पक्के फ़ूड आइटम्स से बने होते हैं क्योंकि ज्यादातर कंस्यूमर्स इस बात को खुशी ख़ुशी स्वीकार करते है।अगर हम भारतीय स्ट्रीट फूड के स्वास्थ्य और स्वच्छता के पहलू पर एक नज़र डालें, तो यह अधिक अशुद्ध या अनहाइजीनिक नहीं है (जब तक कि आप कुछ बहुत ही पीछडे क्षेत्र से नहीं खाते हैं।) आप पाएंगे कि लगभग हर दूसरे भारतीय स्ट्रीट फूड विक्रेता सब्जियों का उपयोग करते हैं। दालें, साथ ही कई आयुर्वेदिक प्रजातियां जैसे कि लहसुन और हल्दी। ये सभी स्वस्थ तत्व स्ट्रीट फूड की क़्वालिटी में इजाफा करते हैं। इसके अलावा, कई सड़क विक्रेता इन दिनों किसी भी स्वास्थ्य समस्या से बचने के लिए डिस्पोजेबल दस्ताने पहनते हैं।

वेस्टर्न विज़िटर्स जब भारत आते है तो अक्सर सड़क किनारे खड़े स्टाल से दूर रहने की कोशिश करते हैं क्योंकि वे स्वच्छता के बारे में चिंतित होते हैं। लेकिन अगर आप हमसे पूछें, तो भारतीय स्ट्रीट फूड्स किसी भी पर्यटक रेस्तरां के व्यंजनों की तुलना में ज्यादा स्वस्थ, बेहतर और ताजे होते है। स्ट्रीट फ़ूड उन रेस्तरां से लाख गुणा बेहतर है जहां ये भी स्योरिटी नहीं होती कि जो भोजन परोसा जा रहा है वो ताज़ा है ,पुराना है या बचेकूचे खाने में से दिया गया है। स्ट्रीट वेंडर आपको सबसे बेहतर भोजन तैयार करने की गारंटी देते हैं। यह बहुत संतोषजनक होता है कि हम जो भोजन करने जा रहे हैं वह हमारी आंखों के सामने पकाया गया है। इससे बेहतर और क्या हो सकता है? भारत के स्ट्रीट वेंडर का पूरा घर खर्च इसी स्टाल पर निर्भर करता है इसलिए वे हमेशा अपने ग्राहकों को संतुष्ट करने की हर सम्भव कोशिश करते है ताकि वे फिर से आये । और यही कारण है कि वे यह भी सुनिश्चित करते हैं कि भोजन न केवल स्वादिष्ट हो, बल्कि ताजा और हाइजीनिक भी हो। तभी तो हम भारतीय गर्व से कह सकते हैं कि हमारे स्ट्रीट फूड सबसे अच्छे और सबसे लोकप्रिय हैं।

भारत के टॉप स्ट्रीट फ़ूड।

1. छोले भटूरे।

छोले भटूरे एक पंजाबी डिश है जो भारत के उत्तरी हिस्सों में बड़े चाव से खाई जाती है। छोले भटूरे पंजाब में अधिक लोकप्रिय है परन्तु यह भारत के शहरो में भी प्रसिद्ध है। पंजाब के अलावा, दिल्ली छोले भटूरे का स्वाद चखने के लिए सबसे अच्छी जगह है। । मसालेदार चना मसाला (छोले) और नरम भटूरे का कॉम्बिनेशन किसी भी फूडी का दिन बना सकता है। आप दिल्ली के पहाड़गंज, कमला नगर, सरदार बाजार जैसे इलाको में सड़कों पर लगभग हर जगह खड़े ठेलो पर गरमागर्म छोले भटूरे का आनंद ले सकते है ।

2. मोमोज |

मोमोज का जन्म मुख्य रूप से तिब्बत में हुआ था। बाद में ये डिश आग की तरह पड़ोसी देशों में भी फैल गई । यह एक ऐसा व्यंजन है जो भारत के उत्तरी भाग में काफी लोकप्रिय है। मोमो नेपाली और तिब्बती समुदायों के लिए एक पारंपरिक मर्यादा है। भारत के लगभग हर राज्य और शहरों में आपको मोमोज के अलग वर्जन मिल सकते हैं। लेकिन अगर आप मोमोज के प्रामाणिक स्वाद का आनंद लेना चाहते हैं, तो पूर्वोत्तर भारत इसके लिए सबसे बेस्ट है। नेपाल, लद्दाख, जम्मू और तिब्बत की सड़कों पर आप जैसे ही बाहर निकलते है तो आप पाएंगे हैं कि लोग गर्मागर्म उबले हुए मोमोज का आनंद ले रहे हैं। मोमोज की बाहरी कवरिंग आम तौर पर पानी और सफेद आटे को गूंथकर बनायी जाती है। कई बार आटे की बनावट में सुधार के लिए थोड़ा बेकिंग सोडा मिलाया जाता है। मोमोज दो तरह के होते हैं- स्टीम्ड और फ्राइड। आपको नेपाल की सड़कों पर दोनो तरह के मोमोज मिलेंगे। आमतौर पर मोमोज को टमाटर की चटनी के साथ परोसा जाता है।

3. बर्फ का गोला |

आइस गोला कह लो या बर्फ़ का गोला कह लो या आप चुस्की भी कह सकते है। नाम अनेक है पर चीज़ एक ही है। यह माना जाता है कि जापानी ही थे जिन्होंने बर्फ के गोले का आविष्कार किया था। 794 से 1185 ई. के युग में बर्फ को बहुत दुर्लभ माना जाता था, और हीयन अवधि के दौरान, बर्फ को बड़ी मुश्किलों से पहाड़ों से नीचे लाकर इसे एक गुफा में रख दिया जाता था। जिस कमरे में बर्फ इकट्ठा किया जाता था वह बर्फ के कमरे में बदल जाता था । लोगों का मानना ​​है कि बर्फ के गोले के पीछे एक स्ट्रांग बिलीफ जुड़ा हुआ है। बर्फ के गोले के पीछे की कहानी जो भी है और जिसने भी इस ताज़े बर्फ के गोले का आविष्कार किया हो , हम उनका तहेदिल से शुक्रिया अदा करते है । क्या आप जानना चाहते हैं कि भारत में सबसे अच्छा गोला कहां मिल सकता है? इसका आसान सा जवाब है हर जगह। भारत में आप चाहे किसी भी स्थान पर जाये , बर्फ का गोला एक ऐसी चीज है, जिसे देखकर आप खुद पर काबू नहीं कर पाते । बर्फीले शरबत के साथ स्वादिष्ट फ्लेवर का मिश्रण गर्मियों के दौरान लोगों को तरोताज़ा महसूस कराता है। कई दुकानें पर तो सुगंधित बर्फ के गोले भी मिलते है । चिलचिलाती गर्मी को मात देते हुए सड़क के किनारे खड़े होकर ठंडा, ताज़ा बर्फ का गोला खाने से बेहतर कुछ नहीं हो सकता। यह आपकी खुशहाल बचपन की यादो को हरा करने का काम करता है।

4. दही पूरी।

सभी चाट प्रेमियों के लिए, दहीपुरी एक बेहतरीन विकल्प है। दहीपुरी भारत के महाराष्ट्र राज्य में सबसे लोकप्रिय है, और यह मुंबई शहर से उत्पन्न हुई थी । मुंबई की सड़कों पर चलते हुए आपको कई स्ट्रीट स्टालस पर दही पूरी रखी हुए मिल जाएँगी। प्रति प्लेट में कुछ 5 या 6 दहीपुरिया खाने को मिलती है। दहीपुरी को भी ठीक पानीपुरी की तरह एक साथ पूरा खाया जाना चाहिए ताकि आप एक भी फ्लेवर और बनावट का स्वाद चखने से न चुके । इसके विषय में सबसे अच्छी बात खुद इसके खाने का तरीका है।

5. पाव भाजी और वड़ा पाव।

मुंबईकरों का आठ लादी या 6 लादिपव के साथ गहरा लगाव है। बस 'पाव' शब्द का नाम लेते ही , आपके सामने पाव से बनने कई किस्म के स्वादिष्ट व्यंजन तैयार है। पावभाजी और वाडापव उनमें से दो हैं। इन दोनों ही व्यंजनो का जन्म मुंबई में हुआ हैं ।क्या आप जानते हैं कि पावभाजी की शुरुआत के पीछे एक दिलचस्प कहानी है? पुराने समय में मुंबई लेबर क्लास और मिलों से भरा हुआ था। काम के ज्यादा प्रेस्सर के कारण, श्रमिकों के पास आराम से बैठने और अपना दोपहर का भोजन करने के लिए भी पर्याप्त समय नहीं रहता था क्योंकि उनको बहुत छोटे लंच ब्रेक्स दिए जाते थे । इसी समय, उनके काम की मांग होती थी कि वे कुछ भी भारी ना खाये । वही वो समय था जब सड़क किनारे विक्रेताओं ने पावभाजी की व्यवस्था की। है ना दिलचस्प ? पावभाजी एक गाढ़ी करी होती है जिसे बनाने के लिए बहुत सारी सब्जियों का उपयोग किया जाता है जैसे कि प्याज, हरी मटर, शिमला मिर्च, टमाटर, आलू, फूलगोभी, और भी बहुत कुछ। इसे बटर फ्राई और नरम पाव के साथ परोसा जाता है।

वाडापव, नाम ही हर मुंबईकर के मुँह में पानी लाने के लिए काफी है। यह भारतीय बर्गर सभी का पसंदीदा है। और अगर आप कभी मुंबई में कदम रखते हैं, तो आप ऑल-टाइम फेवरिट वडापाव को खाए बिना नहीं रह सकते। वडापाड़ा खाने के लिए सिर्फ एक सबसे अच्छी जगह नहीं है। पूरे मुंबई में सैकड़ों सड़क किनारे स्टॉल हैं, जो सर्वश्रेष्ठ वाडापव बेचते हैं। देसी स्पीशीज से भरे आलू को जब बेसन के घोल से कोटेड पाव के साथ गरमा-गरम परोसा जाता है, तो वह किसी को भी वाडापव का प्रशंसक बना सकता है।

6. इडली, डोसा और वड़ा।

"इडली, डोसा, और वड़ा ये सभी व्यंजन भारत के दक्षिणी भाग से उत्पन्न होते हैं और ये साउथ इंडिया के सबसे लोकप्रिय मुँह में पानी लाने वाली व्यंजन हैं। दक्षिण भारतीयों को नाश्ते के समय में ये व्यंजन खाना पसंद होता हैं। तीनों व्यंजनो में चावल के आटे से तैयार बैटर कॉमन होता है। डोसा की बात करे तो मुख्य रूप से डोसे दो प्रकार के होते है । एक मसाला डोसा जिसमे डोसा बैटर के ऊपर सब्जियों का मिश्रण डाला जाता है और इसे गर्म तवे पर सेका जाता है। और दूसरा है सादा डोसा । इडली और सादा डोसा नारियल की चटनी के साथ परोसा जाता है, जबकि मेंडुवाड़ा गर्म सांभर के साथ परोसा जाता है।
"

7. आलू टिक्की |

आलू टिक्की एक और पसंदीदा स्नैक है जिसके स्टाल आपको पुरे भारत में सड़क के किनारे खड़े हुए दिख जायेंगे । आलू टिक्की का जन्म उत्तर भारत में हुआ था । टिक्की उबले हुए आलू से बनाई जाती है। इस उत्तर भारतीय नाश्ते को सॉस के साथ गर्म परोसा जाता है। अलग-अलग शहर में आलू टिक्की का एक अलग नाम है। उदाहरण के लिए - मुंबई में, इसे रगड़ा पैटीज़ कहा जाता है और इसे विभिन्न चाट स्टालों पर बेचा जाता है। मुम्बई में सबसे ज्यादा आलू टिक्की चौपाटी बीच पर पॉपुलर है।

8. मीट रोल और कुल्चा |

मीट रोल या रूलाडे एक स्वादिष्ट व्यंजन है, जो मीठे के साथ-साथ सौवेरी के रूप में भी खाया जाता है। स्वीट रौलेड के उदाहरणों में से एक है स्विस रोल । मीट रोल में स्टेक का हिस्सा होता है इसके बीच में हरी सब्जी, पनीर या कोई अन्य मांस भरा जाता है।। इस तरह के पकवान को टूथपिक से या फाइबर के स्ट्रैंड की मदद से बंद किया जाता है।

दूसरी ओर, कुल्चा, एक फ्लैटब्रेड है जो एशिया के साउथर्न रीजन या इंडियन सबकांटिनेंट से उत्पन्न हुआ था । इस व्यंजन की ख़ासियत यह है कि कुल्चो को सेंकने के लिए मिट्टी के ओवन या तंदूर का इस्तेमाल किया जाता है, जिसके परिणामस्वरूप इसका स्वाद लाजवाब होता है। इसे सादे कुल्चे से लेकर अलग अलग एक्सपेरिमेंट के साथ बनाया जा सकता है। स्टफ्फिंग को भी व्यक्ति की पसंद के आधार पर भरा जा सकता है।

9. पोहा |

क्या आप जानते हैं, न्यूट्रिशनिस्ट्स के अनुसार, पोहा सबसे ज्यादा सेहतमंद भारतीय नाश्तो में से एक है। पोहा आयरन, कार्बोहाइड्रेट और आवश्यक विटामिन का एक अच्छा स्रोत है। पोहा मुख्य रूप से भारत के महाराष्ट्र राज्य से उत्पन्न हुआ था । महाराष्ट्र में, 'कांडा पोहा' सबसे लोकप्रिय है। यह भारतीय व्यंजन भारत के अन्य राज्यों जैसे गुजरात, मध्य प्रदेश, कर्नाटक और तेलंगाना में भी खाया जाता है। हालाँकि सड़क पर चाट के स्टाल्स की तरह आपको पोहे के स्टाल नहीं मिल पाएंगे । लेकिन महाराष्ट्र में कई ऐसे क्षेत्र हैं जहां आप बेहतरीन पोहा पकवान का आनंद ले सकते हैं।

10. पानी पूरी |

यह गोल, खोखली और कुरकुरी पुरी हर स्ट्रीट फूड लवर्स की टॉप लिस्ट में शुमार है। लड़कियां तो पानी पूरी के ऊपर अपनी जान छिड़कती है। अलग-अलग क्षेत्रों में इसे अलग-अलग नामो से पुकारा जाता हैं। लिस्ट बहुत लम्बी है। यह माना जाता है कि पानीपुरी की उतपत्ति महाकाव्य महाभारत से हुई थी । इसके पीछे एक कहानी है - जब एक बार नवविवाहित द्रौपदी घर लौटती है, तो उसकी सास कुंती उसे उसकी क्षमताओं का परीक्षण करने के लिए एक कार्य देती है। वह द्रौपदी को थोड़ी मात्रा में गेहूं का आटा और कुछ बचे हुए आलू देकर कुछ भोजन बनाने का निर्देश देती है जिससे उसके बेटों की भूख शांत हो। यही वो समय था जब द्रौपदी ने पानीपुरी का आविष्कार किया और अपनी बहू की क्षमता से प्रभावित होकर कुंती ने इस पकवान को अमरता का आशीर्वाद दिया । इतिहास की सटीकता का पता लगाना अभी बाकी है। अतीत जो भी हो, एक बात स्पष्ट है, कि पूरे भारत मके लोगों को पानीपुरी से बहुत प्यार है।

बोनस टिप : प्रसिद्ध बॉम्बे सैंडविच को भी आजमाये क्योंकि यह शहर के लोगो के फेवरट है।

इस स्ट्रीट फ़ूड की सूची में जब तक बॉम्बे के मशहूर सैंडविच का नाम न जोड़ा जाये तब तक यह लिस्ट अधूरी है। यह स्ट्रीट फूड बॉम्बे में रहने वाले हर एक व्यक्ति का पसंदीदा है। आपको बॉम्बे में सैंडविच के विभिन्न वर्जन के साथ कई स्टाल्स मिलेंगे।भारत के स्ट्रीट फूड्स के बारे में सभी जानकारी के बाद, क्या अब आप मानते हैं कि हम भारतीयों के पास दुनिया के कुछ सबसे लजीज स्ट्रीट फ़ूड की उत्पत्ति हुई है ?

From our editorial team

समाप्ति

हम आशा करते हैं कि आपने पूरा अनुछेद पढ़ा होगा और आपका मुंह इस वक्त पानी से भरा होगा। हमें उम्मीद है कि हमारे द्वारा बताई गई सूची आपको काफी पसंद आई होगी। तो देर मत कीजिए और जल्द से जल्द इन्हें ट्राई करें।